अमृतसर जैसा ही हादसा Madhya pradesh के इन इलाकों में भी हो सकता है, पटरी पर बैठे रहते हैं लोग

Madhya pradesh Rail track

New Delhi: हाल ही में पंजाब के अमृतसर में हुए भयानक रेल हादसे के बाद से हर कोई स्तब्ध है। इस घटना ने लोगों को अंदर तक झकझोर कर रख दिया है। वहीं अमृतसर की हैरान करने वाली घटना के बाद कई इलाकों का मुआयना किया जा रहा है। इस दौरान यह सामने आया है कि, Madhya pradesh  में भी कई ऐसी जगह हैं जहां पर रेलवे ट्रैक के आसपास ही रावण दहन किया जाता है। साथ ही कई मंदिर पटरी के पास ही बने हैं। 

गौरतलब है कि, बीते दिन दशहरे पर वंजाब के अमृतसर में एक ऐसी घटना घटी है जिसको सुनकर हर कोई हैरान है। वहीं जिन लोगों ने इस घटना को अपनी आंखों से देखा है वह अंदर तक हिल गए हैं और गहरे सदमे में हैं। अब तक इस घटना में 60 लोगों की जान जाने की खबर है। वहीं अब मध्यप्रदेश से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। बताया गया कि, प्रदेश के कई इलाके हैं जहां पर अमृतसर जैस ही घटना हो सकती है। इन जिलों में भी रेलवे ट्रैक के आसपास ही रावण दहन होता है। Madhya pradesh में यह है स्थिति बेरछा की है जहां रेलवे ट्रैक से करीब 100 फीट की दूरी पर होता है रावण के पुतले का दहन किया जाता है। इस दौरान कई लोग पटरी पर ही बैठ जाते हैं। वहीं रिपोर्ट के मुताबिक, इसी समय दो-तीन ट्रेनों के गुजरने का समय भी रहता है।

Amritsar latest visuals

ऐसे में अब रेलवे के साथ ही जिले के प्रशासन को इन बातों पर खासा गौर करने की जरुरत है। वहीं बेरछा ही नहीं जिले के कई अन्य इलाकों का हाल भी ऐसा ही है। बोलाई रेलवे स्टेशन से चंद कदमों की दूरी पर प्रसिद्ध सिद्धवीर हनुमान मंदिर है। बताया जा रहा है कि, हर शनिवार और मंगलवार को 10 से 15 हजार श्रद्धालु बाबा के दर्शन करने पहुंचते हैं। अधिकांश ट्रेन से ही आते-जाते हैं। इन दो दिनों में रेलवे स्टेशन परिसर यात्रियों की भीड़ से खचाखच भर जाता है। इसके बावजूद यहां पर न तो रेलवे और न ही स्थानीय पुलिस श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए कोई विशेष उपाय करता है। ऐसे में अमृतसर में हुई दर्दनाक घटना के बाद से प्रशासन को सीख लेनी चाहिए और किसी बड़ी अनहोनी से पहले जिले में सुरक्षा व्यवस्था सुचारु करनी चाहिए।

शिवराज सिंह चौहान के गढ़ Madhya pradesh में ऐसी कई जिले हैं जहां पर लोगों की जान के साथ खिलवाड़ हो रहा है। कई मंदिर और स्थानीय जगह ऐसी हैं जो रेलवे ट्रैक के नजदीक हैं। ऐसे में वहां भक्तों और श्रद्धालुओं की भारी भीड़ इकठ्ठा होती है जहां रेलवे लाइन है। ऐसे में अगर किसी कारण से इन मंदिरों या कार्यक्रम स्थल के समीप भगदड़ मचती है तो वहां पर भी अमृतसर जैसी ही घटना हो सकती है। टन प्रशासन को इन बातों पर गौर फरमाना चाहिए और सुरकशा के अकड़े इंतजाम करने के लिए तुरंत फैसला लेना चाहिये।

About Ashish

Enthusiast, Creative and Fair flair Writing

View all posts by Ashish →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *