राहुल गांधी के गढ़ अमेठी में कांग्रेस में बड़ा फेरबदल, युवा चेहरों को मिली जिम्मेदारी

Rahul Gandhi

New Delhi: कांग्रेस के गढ़ अमेठी में शनिवार को बड़ा फेरबदल किया गया है। इसी कड़ी में शेषनाथ सिंह समेत 6 लोगों को जिला महासचिव बनाया गया है।

दरअसल 2019 लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस कोई भी चूक करने के मूड में नहीं दिख रही है। कांग्रेस ने लोकसभा के पहले ऐसे कांग्रेसी नेताओं को साधना शुरू कर दिया है जो सालो पहले में कांग्रेस की रीढ़ माने जाते थे और बदलते समय के साथ या तो वो घर पर बैठ गए या फिर पार्टी से दूरी बना ली।

अमेठा का किला ढहाने के लिए बीजेपी लगातार कोशिश कर रही है। अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस पर विशेष ध्यान है। अमित शाह लगातार अमेठी और रायबरेली पर निगाह गड़ाए हुए हैं। बीजेपी ने रायबरेली से एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह को अपने पाले में कर लिया है। उनके विधायक भाई भी बीजेपी के साथ जुड़ गए हैं।

Rahul Gandhi

अमेठी 1967 में संसदीय क्षेत्र बना था। इसके पहले सांसद कांग्रेस के विद्याधर वाजपेयी बने थे। तब से लेकर आज तक कांग्रेस यहं सिर्फ 2 बार चुनाव हारी है। 1977 में संजय गांधी जनता पार्टी के उम्मीदवार रवींद्र सिंह से चुनाव हार गए थे। उसके बाद 1998 में तब बीजेपी उम्मीदवार संजय सिंह ने सतीश शर्मा को हराया था।

संजय गांधी के बाद 1981 में राजीव गांधी यहां से सासंद चुने गए। इस सीट पर बीजेपी सिर्फ 1998 में चुनाव जीत पाई है। लेकिन तब के बीजेपी सांसद काफी पहले कांग्रेस में अपनी घर वापसी कर चुके हैं। संजय सिंह मौजूदा समय में कांग्रेस के राज्यसभा सांसद है।

About Manish

I became a journalist because I did not want to rely on newspapers for information.

View all posts by Manish →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *