शौर्य चक्र विजेता सैनिक के अपमान पर घिरीं महबूबा, गवर्नर मलिक ने बताया चुनावी स्टंट

Quaint Media

New Delhi: जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भारतीय सेना के अधिकारी मेजर रोहित शुक्ला का अपमान करते हुए कहा एक मामले की जांच करते हुए उन्होंने कश्मीर के युवा को प्रताड़ित किया है।

दरअसल अस्पताल का दौरा करने की गईं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मेजर मोहित शुक्ला ने उसका गला दबाया और उसे बं’दूक कंधे पर रख कर पोज करने को कहा। मुफ्ती ने दौरे के बाद कहा वह किस तरह का सैनिक है। एक सैनिक है। एक सैनिक जो अपने ही बच्चों जम्मू कश्मीर के बच्चों पर अ’त्याचार कर रहा है।

महबूबा मुफ्ती के मेजर शुक्ला पर दिए बयान को बेतुका बताते हुए गवर्नर सत्यपाल मलिक ने कहा, चुनाव का वक्त है, उनकी पार्टी टूट रही है, खराब हाल में है। वो इसी किस्म के सपोर्ट से ताकत में आई थीं। उनको गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है। हमारे सुरक्षा बलों का किसी महबूबा मुफ्ती के बयान से मनोबल नहीं गिरने दिया जाएगा।

Quaint Media

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मुफ्ती ने कहा, युवक का नाम तौसीब है। मेजर शुक्ला ने उसे कैंट बुलाया। तौसीब के पिता को कुछ साल पहले आ’तंकवादियों ने मार दिया था। उसका भाई सेना में है और जुलाई से लापता है। मेजर शुक्ला ने उसे सेना के शिविर में बुलाया। वहां पर, उन्होंने उसकी पि’टाई की। उसे अपने कंधे पर बंदूक के साथ पोज़ देने के लिए कहा गया ताकि वे एक तस्वीर क्लिक कर सकें।

केंद्रीय मंत्री जीतेंद्र सिंह ने भी पलटवार किया है। उन्होंने इस बयान को मानवाधिकारों की पक्षपाती निंदा बताया है। उन्होंने कहा, ये नेता मुठभेड़ में मारे गए आ’तंकवादी की मौ’त पर बहुत जल्दी सहानुभूति व्यक्त करते हैं। लेकिन ड्यूटी पर शहीद होने वाले सुरक्षाकर्मी की सहानुभूति में ये लोग एक शब्द भी नहीं कहते।

About Manish

I became a journalist because I did not want to rely on newspapers for information.

View all posts by Manish →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *