अभी-अभी: सबरीमाला के रास्ते में हिसंक प्रदर्शन, प्रदर्शनकारियों ने महिला तीर्थयात्राओं को बनाया निशाना

sabrimala

New Delhi: केरल के प्रसिद्ध Sabarimala मंदिर के कपाट थोड़ी देर में खुलने वाला है, हालांकि इसके पहले मंदिर परिसर के बाहर विरोध प्रदर्शन और तनाव जोरों पर है और इस वक्त तीन अलग अलग जगहों पर सबरीमाला बैस कैंप के पास महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं।  वहीं विरोध के चलते अब तक Sabarimala मंदिर में महिलाओं का प्रवेश नहीं हो पा रहा है।इसके कारण महिला श्रद्धालुओं को वापस लौटना पड़ रहा है। हालांकि पुलिस प्रशासन ने कारवाई करते हुए कुछ प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया है।

बता दें, SC के आदेश के मुताबिक सबरीमाला मंदिर में सभी उम्रवर्ग की महिलाओं प्रवेश कर सकेंगी। ऐसे में SC के इस फैसले का विरोध प्रदर्शन और तेज हो गया है। इस कड़ी में बीते दिन लोगों ने Pandalam ayyappa temple से  Nilakkal तक बाइक रैली की आयोजन किया। वहीं त्रावणकोर देवस्वाम बोर्ड (TDB) ने एक बैठक बुलाई थी, जिसमें प्रमुख पुरोहित परिवार, पंडलाम राजपरिवार और अयप्पा सेवा संघम शामिल थे।

मंदिर परिसर से करीब 20 किमी दूर निलाकल बेस कैंप में भगवान अयप्पा में बड़ी तदाद में भक्त ठहरे हुए हैं, जिसमें सैंकड़ो की संख्या में महिलाएं और बच्चे भी शामिल है। हालांकि इन भक्तों का कहना है कि अब तक प्रशासन की तरफ से इस बात से अवगत नहीं कराया गया कि मंदिर का कपाट कब खुलेगा। फिलहाल प्रशासन सबरीमाला मदिंर के बाहर  की स्थिती पर लगातार नजर बनाए हुए हैं।

इसी बीच केरल के CM Pinarayi Vijayan ने सुरक्षा मुहैया कराने का वादा करते हुए कहा कि  हम लोग किसी को कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं देंगे। सरकार मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा की व्यवस्था करेगी। साथ ही कहा कि सरकार मामले पर कोई रिव्यू पिटिशन नहीं दायर करेगी। हमने कोर्ट के ऑर्डर पर अमल करने का भरोसा दिया है।

आपको बता दें कि केरल के पत्थरमथिट्टा जिले में पश्चिमी घाट की एक पहाड़ी पर Sabarimala मंदिर बना हुआ हैं। महिलाओं के प्रवेश को लेकर मंदिर के प्रंबधन का कहना था कि मासिक धर्म के कारण 10 से 50 साल की उम्र की महिलाओं का मंदिर में प्रवेश करना वर्जित था, लेकिन Supreme court ने 53 साल पुरानी पंरपरा को तोड़ महिलाओं को मंदिर में जाने की इजाजत देते हुए ऐतिहासिक फैसला सुनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *