अभी-अभी: आप नेताओं पर नहीं चलेगा केस, साल 214 में तिहाड़ जेल के सामने किया था प्रदर्शन

New Delhi: साल 2014 में तिहाड़ जेल के सामने प्रदर्शन के मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सहित आप विधायक संजीव झा, अमानत उल्ला खान और जरनैल सिंह को बड़ी राहत दी हैं। दरअल, पटियाला हाउस कोर्ट ने सिसोदिया, संजीव झा, अमानत उल्ला खान और जरनैल सिंह को बरी कर दिया हैं। कोर्ट ने पुलिस की चार्जशीट ख़ारिज करते सभी को बरी करने का फैसला सुनाया हैं।

आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस ने जून के महीने में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता योगेंद्र यादव के खिलाफ 4 साल पहले के एक मामले में चार्जशीट दायर की थी। पुलिस ने इस चार्जशीट में मनीष सिसोदिया समेत आप के 59 नेताओं और कार्यकर्ताओं के नाम शामिल किए थे। यह चार्जशीट मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल के सामने भी पेश की गई थी।

क्या हैं पूरा मामला- साल 2014 के मई के महीने में बीजेपी नेता नितिन गडकरी द्वारा आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के खिलाफ दायर मानहानि के एक मामले में केजरीवाल को दो दिन की न्यायिक हिरासत में लेकर तिहाड़ जेल भेजा गया था। केजरीवाल ने इस मामले में 10,000 रुपये के बेल बॉण्ड भरने से इनकार करने किया था, तब उन्हें गिरफ्तार किया गया था।

कोर्ट ने केजरीवाल के जमानत न लेने पर दो दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया था। इसके विरोध में आप के नेता सिसोदिया, योगेंद्र यादव समेत कई नेता और सैकड़ों कार्यकर्ता तिहाड़ जेल के बाहर जमा हो गए थे और बल प्रयोग होने के बाद यह लोग पुलिस से भिड़ गए थे। पुलिस ने इस प्रदर्शन को गैरकानूनी ठहराया था।

आपको बता दें कि योगेंद्र यादव आप पार्टी का साथ छोड़ चुके हैं। यादव अब स्वराज इंडिया नाम की एक पार्टी बनाकर काम कर रहे हैं। पिछले साल दिल्ली नगर निगम चुनाव में योगेंद्र यादव की पार्टी स्वराज इंडिया ने चुनाव लड़ा था, हालांकि उन्हें कहीं से भी जीत नहीं मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *