सबरीमाला मंदिर पर CM विजयन ने दी सफाई, कहा- कानून व्यवस्था में नहीं हुई कोई चूक

SabarimalaTemple

New Delhi: भारी विरोध-प्रदर्शन के बीच Kerala के Sabarimala मंदिर के कपाट सोमवार यानी 22 अक्टूबर को बंद हो गए। आपको बता दें कि Supreme court ने मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं के प्रवेश पर लगी रोक को हटाने का फैसला सुनाया था। बावजूद इसके प्रदर्शनकारियों ने महिलाओं को सबरीमाला में जाने नहीं दिया और जो महिला अंदर गई तो उसे विरोध-प्रदर्शन के बाद रास्ते से ही लौटा दिया गया।  

वहीं सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर Review Petitions पर आज सुप्रीम कोर्ट ने 13 नवंबर को सुनवाई करने का ऐलान किया। वहीं केरल के मुख्‍यमंत्री Pinarayi Vijayan ने कहा कि हम सबरीमाला मंदिर में कोर्ट के फैसले का पालन करेंगे। सरकार ने सारी तैयारियां की हैं, पुलिस ने श्रद्धालुओं को रोकने की कोशिश नहीं की, तो वहीं RSS ने मंदिर को युद्ध का मैदान बना लिया। प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियां तक में तोड़फोड़ की और महिला श्रद्धालुओं के साथ-साथ मीडिया पर हमला किया। केरल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है, जब मीडिया को निशाने पर लिया गया।

गौरतलब हैं कि पिछले दिनों Sabarimala मंदिर के कपाट पिछले दिनों खोले गए थे। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश के बाद भी महिलाओं को मंदिर में प्रवेश नहीं मिल सका। आंध्र प्रदेश की रहने वालीं चार महिलाएं भगवान अयप्पा के दर्शन के लिए सबरीमाला मंदिर की गई थी लेकिन गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने उनका रास्ता रोक दिया और मजबूरन उनको वापस लौटना पड़ा।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में जाने की इजाजत दी थी। मंदिर की इस प्रथा को सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने गैर कानूनी घोषित किया था। आपको बता दें कि सबरीमाला मंदिर केरल की राजधानी तिरूवनंतपुरम से 175 किलोमीटर दूर पहाड़ियों पर स्थित हैं। यह मंदिर चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां आने वाले श्रद्धालु सिर पर पोटली रखकर जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *