चुनाव से पहले कांग्रेस ने बनाई अल्पेश ठाकोर से दूरी, कार्यक्रम में ठाकोर को नहीं भेजा बुलावा

Alpesh Thakor

New Delhi:  गुजरात के साबरकांठा में एक 14 साल की बच्ची से हैवानियत की घटना के बाद हिंसा की खबर सामने आने लगी। घटना से गुस्साए लोगों को जब पता चला की आरोपी बिहार से है तो लोगों ने यूपी और बिहार के लोगों को गुजरात से निकालना शुरू कर दिया। हिंसा के चलते डर के चलते लोग राज्य छोड़कर पलायन करने के लिए मजबूर हो गए। ऐसे में कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर का विवादित बयान भी सामने आया। जिसके चलते बिहार कांग्रेस ने अल्पेश ठाकोर से दूरी बना रही हैं।

जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस 21 अक्टूबर को बिहार के पहले मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह की जयंती मनाने जा रही है, जिसमें महागठबंधन से लेकर कांग्रेस के सभी बड़े नेताओं को निमंत्रण दिया गया है लेकिन अल्पेश ठाकोर को बुलावा नहीं भेजा गया है। बताया जाता है कि कार्यक्रम में किसी तरह की फजीहत न हो इसके लिए वह अल्पेश से दूरी बना रही हैं।

alpesh thakor

आपको बता दें कि एक कार्यक्रम के दौरान अल्पेश ठाकोर ने कहा था कि गुजरात में बाहर से आने वालें लोग यहां पर अपराध करते हैं और हमारे लोगों को हमारे ही गांव में मारते हैं। ठाकोर ने कहा कि वे लोग बड़ी-बड़ी कंपनियों में काम करते है, जिससे हमारे लोगों को ही नौकरी नहीं मिलती है। उन्होंने कहा कि अगर आप उन्हें भारतीय मानते हैं तो उन्हें नौकरी में 20% हिस्सा दो। उन्होंने कहा कि गुजरात के लोग अन्य राज्यों में बाहर फेंके जा रहे हैं तो आप क्यों सो रहे थे।

इस बयान पर घमासान मचने के बाद सफाई देते हुए अल्पेश ठाकोर ने इसे राजनीतिक साजिश करार दिया। अल्पेश ठाकोर ने कहा कि वह बिहार के कांग्रेस प्रभारी हैं, जिसके चलते उनके खिलाफ साजिश रची जा रही हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को भड़काने का काम किया हैं। मैं बाहरी लोगों को नौकरी देने के खिलाफ नहीं हूं। उन्होंने कहा कि गुजरात में हो रही घटना की मैं निंदा करता हूं। अगर मैंने किसी को धमकी दी है, तो मैं खुद जेल जाऊंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *